ब्लू व्हेल गेम का सच – जरा बचके

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
नमस्कार, आज की पोस्ट कुछ ख़ास है जिसे सभी पाठकों का ध्यान से पढ़ना जरूरी है, विशेषकर ऐसे माता – पिता को जिनके बच्चे सारा दिन मोबाईल या कम्प्यूटर पर ऑनलाइन गेम खेलते रहते है । Internet Duniya में एक खबर वायरल हो रही है कि Blue Whale Game खेलकर बच्चे सुसाइड कर रहे है । यह अफवाह नही है यह बात बिल्कुल सच है । कृपया इसे अफवाह मानने की गलती न करें ।
The Blue Whale गेम एक ऐसा ऑनलाइन गेम है जो सुसाइड करने के लिए मजबूर करता है और ऐसे टास्क देता है कि अंतिम टास्क तक खेलने पर Player के दिमाग में मरने की बात पैदा हो जाती है और Game Player आखिरी task पूरा करने के लिए आत्महत्या करने को मजबूर हो जाता है ।

इस गेम से अब तक :- 

• भारत में मुम्बई में एक 14 वर्षीय बच्चे ने इस गेम के अंतिम टास्क को पूरा करने के लिए अपनी जान दे दी ।
• रुस में 130 लोग लोग अब तक आत्महत्या कर चुके है ।
• दुनियाभर के लगभग 19 देशों में यह गेम अपने पैर पसार चुका है ।
• दुनियाभर में 200 से ज्यादा लोगों ने अब तक आत्महत्या कर ली है ।

ऐसे गेम को देखते हुए कहा जा सकता है कि Internet World पर भी इंसान किसी तरह Safe नही है, तन, मन, धन तीनों पर वार करना हजारों किलोमीटर दूर बैठे इंसान द्वारा सम्भव हो जाता जा रहा है । मानवता व मानवीय मूल्यों का दिनों दिन पतन होता जा रहा है ।
Hacking, Cracking, Fraud के बाद अब लोगों की जान भी गलत सोच वाले लोगों द्वारा ली जाने लगी है ।

ब्लू व्हेल गेम क्या है ? 

इस खूनी व्हेल गेम की शुरुआत रूस के मनोरोगी इंसान फिलिप बुडेकिन ने 2013 में बनाया जिसे शुरूआती समय में उसने सोशल मीडिया पर लोगों को अपनी बातों में लाकर खेलने के लिए उकसाने लगा । इस गेम में 50 दिन के लिए 50 टास्क दिए जाते है । हर रोज हर हाल में एक टास्क पूरा करना पड़ता है । प्रत्येक टास्क के पूरा होने पर उसको App पर शेयर करना पड़ता है । अगर आप टास्क बीच में छोड़ते हो तो आपके परिवार को जान से मारने की धमकी दी जाती है और आपको यह गेम 50वें टास्क तक खेलने को मजबूर होना पड़ता है । 50 वे टास्क तक आते – आते उसे खेलने वाले  व्यक्ति या बच्चे की मानसिकता ऐसी हो जाती है कि वह 50वें टास्क पर सुसाइड कर लेता है । इस गेम को खेलने के बाद उस समय रूस के कई लोगो ने अपनी जान दे दी । बाद में रूसी सरकार द्वारा 2015 में बुडेकिन को लोगों को आत्महत्या के लिए मजबूर करने के जुर्म में जेल भेज दिया गया ।

हाल ही में अब यह गेम भारत में प्रवेश कर चुका है । भारत के साथ – साथ अमेरिका व अन्य 19 देशों में भी अपने पैर पसार चूका है । इसको खेलकर भारत में मुम्बई के एक 14 वर्षीय बच्चे ने आत्महत्या कर ली । वह अंतिम टास्क को पूरा करने के लिए छठी मंजिल की छत से कूद गया ।
अब तक भारत समेत अन्य देशों में इस गेम की वजह से 200 से ज्यादा लोगों ने आत्महत्या कर ली है ।

ऐसे होते Blue Whale गेम के टास्क

यह इंटरनेट पर खेला जाने वाला गेम है, इस गेम को खेलने वाले बच्चे के सामने कई तरह के 50 चैलेंज रखे जाते हैं । ये सभी चैलेंज 50 दिन के अंदर पूरे करने होते हैं । इसमें अंतिम चैलेंज के रूप में आत्महत्या को रखा गया है ।
हर चैलेंज को पूरा करने पर हाथ पर एक कट करने के लिए कहा जाता है । चैलेंज पूरे होते-होते आखिर तक हाथ पर व्हेल की आकृति उभरती है । चैलेंज के तहत हाथ पर ब्लेड से एफ-57 उकेरकर फोटो या फिर वीडियो भेजने को कहा जाता है । हॉरर वीडियो या फिल्म देखने के लिए कहा जाता है । हाथ की 3 नसों को काटकर उसकी फोटो क्यूरेटर को भेजना भी एक चैलेंज है । ऊंची से ऊंची छत पर जाने को इस गेम में कहा जाता है । व्हेल बनने के लिए तैयार होने पर अपने पैर में ‘यस’ उकेरना होता है । तैयार होने पर खुद को चाकू से कई बार काटकर सजा देना भी चैलेंज का हिस्सा है । सभी चैलेंज पूरे करने वाले को खुदकुशी करनी पड़ती है ।

ऐसे गेम से अपने बच्चों को बचाकर रखे । अपने दोस्तों व करीबियों को भी सतर्क करें । ऐसे गेम्स को स्वयं Download करने, ऑनलाइन खेलने से बचे व दूसरों को भी रोकें ।

यह भी पढ़े >> गूगल के बारे में रोचक जानकारी Amazing
अगर आपके पास भी कोई Viral Khabar तो हमारे साथ शेयर कीजिए उसे इस वेबसाइट पर पोस्ट किया जाएगा ।

ये पोस्ट आपको कैसी लगी, कमेंट अवश्य करें ।


Like our Facebook Page & Get Updates.

इंटरनेट की दुनिया में 1 मिनट में क्या होता है रोचक जानकारी

Namste India, इस पोस्ट में आपको बताया जा रहा है Online Dunia में एक मिनट में क्या – क्या होता है ।

वैसे तो कहा जाता है कि एक मिनट आपकी जिंदगी बदल सकता है । परंतु ये तो है जिंदगी की बात, पर हम बात करने जा रहे है एक मिनट में Online World या Internet World में क्या कुछ होता है । यह जानकारी आपका General Knowledge बढ़ाने के साथ आपको OMG कहने पर भी मजबूर करेगी ।

जानिए प्रत्येक मिनट में Online World में क्या – क्या होता है हर एक मिनट में >>

Facebook
– हर मिनट 9 लाख Facebook Users अपनी ID Login करते है ।
– हर मिनट फेसबुक पर करीब 1.42 लाख फोटोज अपलोड होती है ।
– फेसबुक पर हर मिनट लगभग 1 लाख Status Update होते है ।

Youtube
– यूट्यूब पर हर मिनट 41 लाख Videos को दुनियाभर में देखा जाता है ।
– हर एक मिनट में यूट्यूब पर 400 घण्टे से ज्यादा समय की Videos अपलोड होती है ।

Twitter
ट्विटर पर प्रति मिनट 4.52 लाख Tweet होते है ।

Whatsapp
– व्हाट्सएप्प पर हर एक मिनट में तकरीबन 1.12 करोड़ Photos को शेयर किया जाता है ।
– हर मिनट Whatsapp पर लगभग 2.98 करोड़ मैसेज भेजे जाते है ।

Instagram
46.2 हजार New Post या Photos Upload होती है हर एक मिनट में इंस्टाग्राम पर ।

Linkedin
हर मिनट 120 नए Account बनते है लिंक्डइन पर ।

Messenger
हर एक मिनट में Messenger Users 15000 जिफ पिक्चर (.Gif) फाइल भेजी जाती है ।

Apps
दुनियाभर में प्रति मिनट 3.42 लाख Apps डाउनलोड की जाती है ।

Email
15.60 करोड़ ईमेल भेजे जाते है दुनियाभर में हर एक मिनट के अंदर ।
# ईमेल की और रोचक जानकारी के लिए Yahan Par Click Karen

Google
35 लाख Content सर्च किए जाते है हर एक मिनट में गूगल पर ।
● गूगल के और रोचक तथ्य अभी पढ़िए > Google Amazing Facts in Hindi अभी पढ़िए

SMS
160 लाख Message भेजे जाते है प्रत्येक मिनट मोबाइल फोन के माध्यम से ।

सभी Social Networks या Internet World  में हर मिनट क्या होता है इसके बारे में जानकर आपको कैसा लगा कमेंट अवश्य करें…
Internet World Ki Shuruat Kaise Hui Jane Abhi Click Here
Like our Facebook Page & Get Updates.

Dr. APJ Abdul Kalaam Rochak Jankari

नमस्कार, आज की पोस्ट मैं आपको भारत के महान व्यक्तिव Dr. APJ Abdul Kalaam के बारे में रोचक बातें बता रहा हूँ ।
यह जानकारी आपका सामान्य ज्ञान बढ़ाएगी…

28 Amazing Facts in Hindi Dr. Kalaam

आज भारत के महान वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम हमारे बीच मौजूद नहीँ है परंतु उनकी याद, उनके किए महान काम आज भी हमारे दिलों – दिमाग में मौजूद है । उन्ही की मेहनत व लगन का परिणाम है कि भारत आज परमाणु शक्ति सम्पन्न राष्ट्र है । भारत के लिए विभिन्न मिसाइलों को बनाकर सुरक्षा चक्र प्रदान किया APJ Abdul Kalaam ने । यही कारण था कि इनका नाम मिसाइल मैन पड़ा ।

◆ 15 Amazing Science Facts in Hindi

Dr. APJ Abdul Kalaam Ke bare me Rochak Jankari

★ एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को रामेश्वरम, तमिलनाडु में हुआ ।

★ अब्दुल कलाम का पूरा नाम अबुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम है ।

★ इनके पिता जैनुलाब्दीन न तो ज़्यादा पढ़े-लिखे थे, न ही पैसे वाले थे। इनके पिता मछुआरों को नाव किराये पर दिया करते थे।

★ अब्दुल कलाम के 5 भाई व 5 बहिनें थी ।

★ परिवार बड़ा था, आमदनी कम थी इसलिए अपने पिता की आर्थिक मदद के लिए अब्दुल कलाम जी ने 5 वर्ष की आयु में ही अखबार बेचने का काम शुरू किया ।

★ डॉ. अब्दुल कलाम फिजिक्स व गणित के विषयों में रुचि थी ।

★ अब्दुल कलाम ने 1958 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से अंतरिक्ष विज्ञान में ग्रेजुएशन पूरी की ।

★ डॉ. कलाम सुबह चार बजे उठकर पढ़ते थे ।

★ अब्दुल कलाम पायलट बनना चाहते थे और उनका सलेक्शन हो भी जाता यदि उनकी Rank Indian Air Force के 9वीं Rank के स्थान पर 8वीं आ जाती । क्योंकि इसमें 8 लोगों को ही लेना था ।

★ 1962 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन से जुड़े ।

★ उन्होंने भारत के लिए स्वदेशी तकनीक युक्त अग्नि, ब्रम्होस, पृथ्वी जैसी मिसाइलों का निर्माण किया । इसके बाद इनका नाम Missile Men पड़ गया ।

★ डॉ. कलाम की उपलब्धियों को देखते हुए भारत सरकार ने इन्हें भारत के सर्वोच्च पुरस्कार भारत रत्न की उपाधि से सम्मानित किया ।

★ 1980 में डॉ. कलाम ने रोहिणी उपग्रह को पृथ्वी की कक्षा के निकट स्थापित किया था। इस के बाद भारत भी अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष क्लब का सदस्य बन गया ।

★ इसरो लॉन्च व्हीकल प्रोग्राम (ISRO Launch Vehicle Program) को परवान चढ़ाने का श्रेय भी इन्हें प्रदान किया जाता है।

★ डॉ. कलाम ने स्वदेशी लक्ष्य भेदी नियंत्रित प्रक्षेपास्त्र (गाइडेड मिसाइल्स) को डिजाइन किया था ।

★ एपीजे अब्दुल कलाम भारत सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार भी रहे थे ।

★ डॉ. कलाम की देखरेख में भारत ने 1998 में पोखरण (जैसलमेर) में अपना दूसरा सफल परमाणु परीक्षण किया और इसके बाद हमारा भारत भी परमाणु शक्ति से संपन्न राष्ट्रों की सूची में शामिल हो गया ।

★ अब्दुल कलाम भारत के ग्यारवें राष्ट्रपति निर्वाचित हुए थे ।

★ Dr. APJ Abdul Kalaam Aajad ने अपनी जीवनी विंग्स ऑफ़ फायर (Wings Of Fire) लिखी । जो भारतीय युवाओं को मार्गदर्शन प्रदान करती है ।

★ इन्होंने तमिल भाषा में कई कविताऐं भी लिखी ।

★ जानकारी के अनुसार अब्दुल कलाम की लिखी पुस्तकों की दक्षिण कोरिया बड़ी मांग रहती है ।

★ अब्दुल कलाम कुरान और भगवत गीता दोनों के अध्ययन में रुचि रखते थे ।

★ जब एक बार किसी पत्रकार ने उनसे पूछा कि वो किस रूप में याद किया जाना पसंद करेगे- एक वैज्ञानिक, एक राष्ट्रपति या एक शिक्षक के रूप में? डॉ. कलाम ने कहा था –
“शिक्षण एक बहुत ही महान पेशा है जो किसी व्यक्ति के चरित्र, क्षमता, और भविष्य को आकार देता है। अगर लोग मुझे एक अच्छे शिक्षक के रूप में याद रखते हैं, तो मेरे लिए ये सबसे बड़ा सम्मान होगा।”

★ डॉ. कलाम अविवाहित थे ।

★ डॉ. कलाम जब स्विट्जरलैंड गए तो उस दिन को उनके सम्मान में Science Day के रूप से मनाने की घोषणा कर दी गई । उस दिन 26 मई थी ।

★ डॉ. कलाम बतौर राष्ट्रपति मिलने वाली अपनी पूरी सैलरी दान में दे दिया करते थे । इसके लिए उन्होंने एक ट्रस्ट भी बनाया जिसका नाम Providing Urban Amenities to Rural Areas(PURA) है ।

★ डॉ. एपीजे कलाम महान वैज्ञानिक डॉ. विक्रम साराभाई को अपना मार्गदर्शक व प्रेरणास्त्रोत मानते थे ।

★ भारत रत्न डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की मृत्यु 27 जुलाई 2015 की शाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग में व्याख्यान देने के दौरान रहे थे दिल का दौरा पड़ने से हुई ।
अभी पढ़े :- Vigyaan Se Jude 15 Rochak Tathya

भारत रत्न डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के जीवन सम्बंधित यह रोचक जानकारी आपको कैसी लगी । कमेंट अवश्य करें…

Like our Facebook Page & Get Updates.

Freindship Day रोचक जानकारी

नमस्कार, सबसे पहले Freindship Day की शुभकामनाएं, ईश्वर आपको सच्चे व अच्छे मित्र दें जो आपकी हर पल मदद को तैयार रहे ।
प्रिय पाठको आज की मेरी पोस्ट Freindship Day के बारे में है ।
इस पोस्ट में आपके लिए है  >
★ Friendship Day की शुरुआत क्यों हुई ?
★ Friendship Day की शुरुआत कहाँ हुई ?
★ Friendship Day के बारे में रोचक बातें
★ Friendship Day शायरी

दोस्ती का रिश्ता बेहद खास होता है । दोस्ती एक ऐसा बन्धन होता है जो अलग – अलग माँ की संतानों को आपस में खून के रिश्ते से भी ज्यादा मजबूत रिश्ते में बाँध देता है ।
हम अपनी कई ऐसी बात जो अपनी Family के साथ Share करने में संकोच करते है, वह बात हम अपने दोस्तों को बेझिझक होकर बता देते है ।

Friendship Day की शुरुआत कब, कहाँ व क्यों हुई ? >
Friendship Day से सम्बंधित रोचक बातें >

◆ Friendship Day की शुरुआत आज से 82 साल पहले हुई थी ।
◆  हर साल अगस्त महीने के पहले रविवार को Friendship Day बनाया जाता है ।
◆ कहा जाता है कि प्रथम विश्व युद्ध के बाद सभी देशों व लोगों में आपसी द्वेष, नफरत व शत्रुता की भावना ने जन्म ले लिया था । इसे समाप्त करने के लिए अमेरिका सरकार ने Friendship Day की शुरुआत की ताकि लोग सब कड़वाहट को समाप्त करके आपस में मित्रतापूर्ण व्यवहार करें ।
आज Friendship को सभी देशों में मनाया जा रहा है । इस दिन लोग अपनी मित्रता व आपसी प्रेम का प्रदर्शन अपने दोस्तों को Sms भेजकर, Call करके या फिर Whatsapp, Facebook के माध्यम से करते है ।

भारत में इस दिन को कृष्ण, सुदामा की दोस्ती के जैसी मित्रता निभाने के लिए बनाया जाता है ।
अभी जानिए >> Prithvi ke Baaren me Rochak Baatein
Friendship Day शायरी

इस दोस्ताना अंदाज को बरकरार रखना,
हर खूबसूरत लम्हे को याद रखना,
ज़िन्दगी में दोस्ती सबसे नहीँ होती,
इसलिए अपने इस दोस्त को हमेंशा याद रखना…
    Share it >>  

☆☆☆

जिंदगी में कुछ दोस्त खास बन गए,
मिले तो मुलाकात और बिछड़े तो याद बन गए,
कुछ भूली बिसरी याद बन गए,
पर जो दिल से ना गए अब तक वो आप बन गए ।
Share it >>

यह पोस्ट आपको कैसी लगी, कमेंट के माध्यम से अवगत कराएं ।

Like our Facebook Page & Get Updates.

Email का अविष्कार

नमस्ते, मैं Vijender Godara इस पोस्ट में आपको Email को किसने ईजाद किया और भारत में सबसे पहले Email Service को किसने शुरू किया  के बारे में बताऊंगा ।
आशा है यह जानकारी आपका ज्ञान बढ़ाएगी…
पिछली पोस्ट में मैंने Internet का आविष्कार किसने किया व भारत में Email की शुरुआत किसने की के बारे में बताया था जिसे आप Yahan Par Click Kar ke पढ़ सकते हैं ।

Email Kisne Banaya, Email Ke Aavishkarak

प्राचीन समय से मानव अपनी सूचना पँहुचाने व संचार के लिए अलग – अलग माध्यमों का उपयोग करता आया है तथा समय समय पर बदलते माहौल के अनुसार नए संचार के माध्यमों का आविष्कार किया ।
कुछ वर्षों पहले तक एक दूसरे तक दूरस्थ व्यक्ति को अपनी बात या सूचना पहुँचाने के लिए खत या चिट्ठी (पत्र) भेजे जाते थे । जिन पर पैसा भी खर्च करना पड़ता और वक्त भी ।
और इतना सब करने के बाद इस सन्देश को पहुँचने में दुरी के हिसाब से हफ्ते से लेकर महीने लग जाते थे और वापिस उस चिठ्ठी का प्रत्युत्तर आने में इतना ही समय लग जाता था ।
इस झंझट से काफी हद तक मुक्ति मिली  जब Email का आविष्कार हुआ ।
जिसने सूचना को कुछ पल में ही एक व्यक्ति के द्वारा दुनिया के किसी भी कोने में बैठे दूसरे व्यक्ति को पहुँचाना संभव बनाया ।

Email का पूरा नाम – इलेक्ट्रॉनिक मेल है ।
Email के माध्यम आज अपनी बात को Text, Audio या Video किसी भी रूप में कहीँ भी दुनिया के किसी भी जगह तुरंत अपने Mobile व Computer से Internet का इस्तेमाल करके पहुँचाया जा सकता है ।

आज Email का उपयोग मात्र सूचना भेजने या प्राप्त करने तक ही सीमित नहीँ रहा है । बल्कि यह हमारी आज Internet की दुनिया में पहचान का साधन बन गया है, एक ID बन गई है जिसके माध्यम Online दुनिया से विभिन्न सुविधाओं को प्राप्त किया जा सकता है ।

Email का आविष्कार –
आपको यह जानकर गर्व का अनुभव होगा की ई-मेल का आविष्कारक एक भारतीय है जिसका नाम शिवा अय्यादुराई था और जिन्होंने 30 अगस्त 1982 को ई-मेल का आविष्कार किया । अमेरिका में ही उन्होंने ग्रेजुएशन की ।

न्यूजर्सी स्थित लिविंगस्टन हाईस्कूल में पढ़ाई के दौरान यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिसिन एंड डेंटिस्ट्री के लिए अय्यादुराई ने ईमेल प्रणाली पर अपना काम शुरू किया था । इस काम में उनको 1978 में कामयाबी मिली और पूरी तरह इंटरऑफिस मेल प्रणाली विकसित की इसे उन्होंने ‘ई-मेल’ नाम दिया और 1982 में कॉपीराइट कराया ।

ईमेल सेवा की भारत में सर्वप्रथम शुरुवात 

ऊपर हमने Email के आविष्कार के बारे में बात की जो अमेरिका में एक भारतीय द्वारा की गई यानि अमेरिका में ही सबसे पहले Email प्रणाली शुरू हुई ।
आपको ये भी जानकर ख़ुशी होगी पहली वेब Email सेवा का शुभारम्भ भी एक भारतीय ने किया ।
Internet की दुनिया में पहली वेबमेल सेवा हॉटमेल (Hotmail) थी और इसकी शुरुआत 1996 में कैलिफोर्निया में भारतीय मूल के सबीर भाटिया ने शुरू की ।

भारत में ईमेल की शुरुवात करने का श्रेय भी सबीर भाटिया को जाता है ।
Hotmail सेवा के बाद ही अन्य Email सेवा प्रदाता कम्पनियों का आगमन हुआ जैसे :-
Gmail, Yahoo mail आदि ।

एक बात और जानकारी के अनुसार ईमेल भेजने की Technology की शुरुवात में Email भेजने का वक्त रात 10.30 बजे होता था । ईमेल भेजने के लिए एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी नेटवर्क का इस्तेमाल किया गया, जो बाद में इंटरनेट सेवा को शुरू करने का आधार बना ।

Email पर सूचना भेजने व प्राप्त करने के लिए आपका किसी Email Service Provider वेबसाइट पर अकाउंट होना जरूरी है । जहाँ से आप अपने Email Address व Password के माध्यम प्राप्त Email देख सकते है ।

Email ID कैसे बनाएं इसके बारे में आप Internet पर से आसानी से जान सकते है और जल्द ही इस वेबसाइट पर भी आपको Email ID बनाने के बारे में बताया जाएगा ।

यह पोस्ट आपको कैसी लगी, कमेंट के माध्यम से अवश्य अवगत करवाएं ।

ये भी देखें ↓
• इंटरनेट के बारे में रोचक तथ्य जो आप शायद नहीं जानते
• गूगल की कुछ मज़ेदार ट्रिक्स
Like our Facebook Page & Get Updates.

इन्टरनेट का आविष्कार

हैल्लो, इस बार आपके लिए मैं एक ज्ञानवर्धक रोचक पोस्ट लेकर प्रस्तुत हुआ हूँ जिसमें आप जान पाएंगे >
★ Internet की शुरुवात सर्वप्रथम कहाँ हुई ?
★ कहाँ इसका आविष्कार हुआ ?
★भारत में Internet कौन लाया ?
★ Internet क्या है ?
★ Internet के बारे में कुछ रोचक बातें ।

Internet Kya Hai Kisne Banaya

Internet क्या है ?
Internet Kya hai ?

Internet का हिंदी में अर्थ अंतर्जाल है ।
Internet जानकारी प्राप्त करने का साधन है । हमारे मन में जो भी शब्द आए या किसी चीज के बारे में जानना हो हम जल्दी से अपने Mobile, Laptop या PC में गूगल बाबा को खोलते है और जो जानना है लिख देते है और गूगल बाबा कुछ सेकंड में उससे सम्बंधित जानकारी आपके आँखों के सामने हाजिर कर देता है ।
यह सब इस Internet की वजह से सम्भव है ।
Internet के बिना किसी भी Browser या Search Engine का कोई महत्व नहीँ है ।
Internet के माध्यम से ही Data या कोई सुचना/जानकारी का आदान प्रदान सम्भव है

आज Internet का उपयोग प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्रत्येक व्यक्ति कर रहा है । इसका उपयोग शिक्षा के क्षेत्र में आम आदमी व विभिन्न संस्थाएं, समाचार पत्रों के Online प्रकाशन में, सेना के क्षेत्र में, सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में किया जा रहा है ।

Internet के बारे में रोचक बातें >>
Internet ke Baare mein Interesting Facts >>

◆ Internet का क्षेत्र विशाल है, हर रोज लाखों सूचनाएं इस पर Upload की जा रही है । इसका   भंडार अनंत है ।
◆ अगर एक व्यक्ति Internet पर उपलब्ध समस्त Web Page को मात्र देखना भी चाहे तो उसे सैंकड़ो साल लग जाए । इतना विशाल है इसका क्षेत्र ।
◆ Internet पर लाखों नए Web Page बनते हैं ।
हजारों Web Address या Domain Register होते है ।
◆ Internet दुनियाभर के अरबों Users को एक साथ जोड़े रखता है । यानि यह विभिन्न व्यक्तियों का समूह या जाल है ।
◆ Internet वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) के आधार पर काम करता है । इसके बिना Internet की कल्पना भी नहीँ की जा सकती ।

Internet की सर्वप्रथम शुरुआत कहाँ हुई, कहाँ आविष्कार हुआ ?

■ Internet का आविष्कार सन , 1969 में डिपार्टमेंट ऑफ़ डिफेन्स द्वारा किया गया था, यह इंटरनेट अमेरिकी रक्षा विभाग के द्वारा सर्वप्रथम इस्तेमाल में लाया गया । इसके माध्यम से विभिन्न गुप्त सूचनाओ का आदान प्रदान किया जाता था ।
■ इन्टरनेट पर सूचना को आदान प्रदान करने के लिए जिस नियम का उपयोग होता है उसे TCP (ट्रांसमिशन कण्ट्रोल प्रोटोकॉल) या IP (इन्टरनेट प्रोटोकॉल) के नाम से जाना जाता है ।
■ सन , 1979 ब्रिटिश डाकघर ने पहला अंतरराष्ट्रीय कंप्यूटर नेटवर्क बनाया व इस नई तकनीक का उपयोग करना आरम्भ किया।

भारत में Internet की शुरुआत कब हुई ?
Bharat mein Intetnet ki Shuruvaat

भारत में इंटरनेट सेवा 15 अगस्त 1995 में आरंभ हुई । यह तब सम्भव हुआ जब विदेश संचार निगम लिमिटेड ने अपनी टेलीफोन लाइन के जरिए दुनिया के अन्य कंप्यूटर से भारतीय कंप्यूटरों को जोड़ दिया ।

अभी जाने >> 
• Email Kya Hai, Kisne Aavishkar Kiya
• Gazab ki Rochak Baatein Google ke Baare Me
यह पोस्ट आपको कैसी लगी, कमेंट के माध्यम अवश्य अवगत कराएं…

Like our Facebook Page & Get Updates.

कड़वा फल – प्रेरक कहानी

नमस्कार, मैं Vijender Godara आज आपके लिए एक रोचक शिक्षाप्रद कहानी लेकर इस वेबसाइट पर हाजिर हूं ।
उम्मीद है इस कहानी से आपको जरूर कुछ सीखने को मिलेगा…

कहानी – कड़वा फल

एक फकीर बहुत दिनों तक एक बादशाह के साथ रहा । बादशाह और फकीर का प्रेम इतना बढ़ गया कि बादशाह रात को भी उसे अपने कमरे में सुलाता । कोई भी काम होता, दोनों साथ – साथ ही करते । एक दिन दोनों शिकार खेलने गए । भूखे – प्यासे एक पेड़ के नीचे पहुँचे । पेड़ पर एक फल लगा था । बादशाह ने घोड़े पर चढ़कर फल को अपने हाथ से तोडा । बादशाह ने फल के छह टुकड़े किए और अपनी आदत के मुताबिक पहला टुकड़ा फकीर को दिया । फकीर ने फल को खाया और बोला – “बहुत स्वादिष्ट ! ऐसा फल कभी नहीँ खाया । एक टुकड़ा और दे दें ।” दूसरा टुकड़ा भी फकीर को मिल गया । फकीर ने फिर एक टुकड़ा और बादशाह से मांग लिया । इसी तरह फकीर ने पांच टुकड़े मांग कर खा लिए । जब फकीर ने आखिरी टुकड़ा माँगा तो बादशाह ने कहा – “यह सीमा से बाहर है । आखिर मैं भी तो भूखा हूं । मेरा तुम पर प्रेम है, पर तुम मुझसे प्रेम नहीँ करते ।” और बादशाह ने फल का टुकड़ा मुँह में रख लिया । मुँह में रखते ही राजा ने उसे थूक दिया, क्योंकि वह कड़वा था । बादशाह बोला – “तुम पागल तो नहीँ । इतना कड़वा फल कैसे खा गए ?” फकीर का उत्तर था – “जिन हाथों से बहुत मीठे फल खाने को मिले, एक कड़वे फल की शिकायत कैसे करूँ । सब टुकड़े इसलिए लेता गया, ताकि आपको पता न चले कि फल कड़वा है ।”
यह सुनकर बादशाह ने फकीर को गले लगा लिया ।

शिक्षा :- इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि हमें ईश्वर द्वारा दी किसी भी वस्तु में कोई कमी नहीँ निकालनी चाहिए ।

Like our Facebook Page & Get Updates. 

जानिए विज्ञान की 15 रोचक बातें

नमस्कार मैं Vijender Godara आज आपके लिए कुछ विज्ञान से सम्बंधित रोचक बातें लेकर प्रस्तुत हुआ हूं | जो आपका ज्ञान बढाने के साथ ही आपका मनोरंजन भी करेगी….

विज्ञान के बारे में 15 रोचक बातें ->



●  हवा तब तक आवाज नही करती जब यह किसी वस्तु के विपरीत न चले ।

● एक व्यक्ति बिना खाने के एक महीना रह सकता है पर बिना पानी के 7 दिन. अगर शरीर में पानी की मात्रा 1 प्रतिशत से कम हो जाए तो आप प्यास महसूस करने लगते है. अगर यह मात्रा 10 प्रतिशत से कम हो जाए तो आप की मौत हो जाएगी ।

● अल्बर्ट आइंस्टिन के अनुसार हम रात को आकाश में लाखों तारे देखते है जगह नही होते बल्कि कही और होते है. हमें तों उनके द्वारा छोडा गया कई लाख प्रकाश साल पहले का प्रकाश होता है ।

● हर 2000 बच्चो में से एक बच्चा दांत के साथ जन्म लेता है ।

● सूर्य प्रकाश को सूर्य से धरती पर आने के लिये 8 मिनट 20 सेकंड लगते है ।

● पूरे Universe (ब्रह्मांड) में करीब 100 बिलियन गैलेक्सी है।

● एक व्यक्ति एक वर्ष में औसतन 15,000
बार सपने देख सकता है ।

● आकाश से गिरी हुई बिजली सूर्य से 5
गुना ज्यादा गर्म होती है ।

● पारा ऐसी  एकमात्र धातु है, जो तरल अवस्था में रहती है और इतनी भारी होती है कि इस पर लोहा भी तैरता है।

● गरम पानी ठंडे पानी से ज्यादा भारी होता है ।

● वैज्ञानिक आज तक निश्चित नहीं कर पाए हैं, कि डायनासोर का रंग क्या था ।

● जब अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष से यात्रा कर धरती पर वापिस आते है तब उन की लंम्बाई 2 इंच बढ़ जाती है । इसका कारण यह है कि हमारी रीढ़ की हड्डी से जुड़ी लचीली हड्डीयां गुरूत्व बल की गैरहाजिरी में फैलने लगती हैं ।

● एक मध्यम आकार के बादल का वजन 80 हाथियो के बराबर होता है ।

● विश्व में सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्व हाईड्रोजन है ।

● मनुष्य का हृदय दिन में करीब एक लाख बार धड़कता है ।
Like our Facebook Page & Get Updates.