1.3.18

होली के बारे में सम्पूर्ण जानकारी, रोचक तथ्य, होली का इतिहास, होली की कहानियां, होली के प्रकार

रंगों, उमंगों, खुशियों का त्योंहार होली भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक जो हर वर्ष फाल्गुन मास की पूर्णिमा को बड़े ही हर्सोल्लास से भारत के विभिन्न भागों में करोड़ो लोगों द्वारा मनाया जाता है ।
होली को नफरत, बैर, कटुता, दुश्मनी को भुलाकर प्रेम, भाईचारा, मिठास, मित्रता अपनाने का त्योंहार माना जाता है । लोग इस दिन अपनों को रंग लगाकर प्रेम जताते है और सब खुशियों के रंग में रंग जाते है ।

आज हम आपको वाओगजब.कॉम पर रंगों नई उमंगों के त्योंहार होली के बारे में रोचक जानकारी देने जा रहे हैं, इसके साथ ही हम आपको होली के कुछ रोचक तथ्य, होली की 3 प्रचलित कहानियां और होली का इतिहास भी बताएंगे । साथ ही बताएंगे कि हमारे देश के अलग - अलग हिस्सों में किस तरह की होली मनाई जाती है
आइए शुरू करते हैं…

होली के बारे में रोचक जानकारी


होली त्योंहार को मनाने के पीछे जो कहानी प्रचलित है वह तो आप सब को पता ही है जो कि हिरण्यकश्यप, प्रह्लाद और होलिका से सम्बंधित है । हिरण्यकश्यप नाम का एक राक्षस था जो कि खुद को भगवान मानने लगे था और जो कोई उनका विरोध करता था तो उसे वो मार देते था लेकिन जब उनके बेटे प्रहलाद ने उसका विरोध किया तो उन्होंने अपनी बहन होलिका से कहा कि वो इसे आग में लेकर बैठ जाये क्योंकि होलिका को वरदान मिला था कि वो जल नहीं सकती लेकिन हुआ इससे उलट, वो जल गई और प्रहलाद बच गया तब से होलिका-दहन होने लगा ।

• होली की राम राम स्टेट्स शायरी हिंदी, फोटो सहित राम राम

होली की अन्य प्रचलित कहानियां


■ होली को लेकर जो पौराणिक कथाएं की प्रचलित है उनमें एक यह भी है जो भगवान शिव और पार्वती की है ।
पौराणिक कथा में हिमालय पुत्री पार्वती चाहती थीं कि उनका विवाह भगवान शिव से हो लेकिन शिव अपनी तपस्या में लीन थे। कामदेव पार्वती की सहायता के लिए आते और प्रेम बाण चलाकर भगवान शिव की तपस्या भंग करते थे।
शिवजी को उस दौरान बड़ा क्रोध आया और उन्होंने अपनी तीसरी आंख खोल दी। उनके क्रोध की ज्वाला में कामदेव का शरीर भस्म हो गया। इन सबके बाद शिवजी पार्वती को देखते हैं पार्वती की आराधना सफल हो जाती है और शिवजी उन्हें अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार कर लेते हैं। होली की आग में वासनात्मक आकर्षण को प्रतीकत्मक रूप से जला कर सच्चे प्रेम के विजय के उत्सव में मनाया जाता है।

■ इसके अलावा एक पौराणिक कथा है भगवान श्रीकृष्ण की जिसमें राक्षसी पूतना एक सुन्दर स्त्री का रूप धारण कर बालक कृष्ण के पास आती है और उन्हें अपना जहरीला दूध पिला कर मारने की कोशिश की । दूध के साथ साथ बालक कृष्ण ने उसके प्राण भी ले लिये । कहा जाता है कि मृत्यु के पश्चात पूतना का शरीर लुप्त हो गया इसलिए ग्वालों ने उसका पुतला बना कर जला डाला । इसके बाद से मथुरा होली का प्रमुख केन्द्र रहा है ।

• हैप्पी होली शुभकामनाएं सन्देश हिंदी में

होली के बारे में रोचक तथ्य


🔶 होली मुख्यतः हिंदुओं का त्योंहार जो भारत व नेपाल में मनाया जाता है । इसके अलावा यह उन देशों में भी बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है जिनमें अल्पसंख्यक हिन्दू रहते है ।

🔵 होली को फगुआ, दोल, धुलण्डी आदि अन्य नामों से भी जाना जाता है ।

🔷 होली का त्योंहार बसंत पंचमी से ही आरम्भ हो जाता है । उसी दिन गुलाल उड़ाया जाता है । इस दिन से धमाल व फ़ाग का गाना शुरू हो जाता है ।

🔴 अलग - अलग क्षेत्र व मान्यताओं के हिसाब से होली का त्योंहार लगभग सभी धर्मों के द्वारा मनाया जाता है ।

🔶 होली दो दिन मनाई जाती है । पहले दिन होलिका दहन किया जाता है तथा दूसरे दिन रंग, गुलाल लगाकर, मिठाई, पकवान खिलाकर खुशियां मनाई जाती है । सबसे ज्यादा हर्सोल्लास और आनंद दूसरे दिन ही आता है ।

🔵 होली को फाल्गुन माह में मनाए जाने के कारण इसे 'फाल्गुनी' भी कहते है ।

🔷 होली का त्योंहार प्राचीन भारत में 'होलाका' के नाम से भी जाना जाता था ।

🔴 भारत में व्रज, मथुरा, वृन्दावन और बरसाने की लट्ठमार होली व श्रीनाथजी, काशी आदि की होली बहुत ही प्रसिद्ध है ।

🔶 भारत के कुछ राज्यों में होली के दुसरे दिन को धुलेटी, धुरखेल, धूलिवंदन उया धुरड्डी भी कहा जाता है ।

🔵 कवियों और साहित्यकारों ने होली को 'मस्ती का त्योंहार' की उपमा दी है । इस त्योंहार पर नाचना - गाना, भांग पीकर मदमस्त हो जाना, एक दूसरे को खूब रंगना आदि तरीकों से खुलकर मौज मस्ती की जाती है ।

🔷 'बुरा न मानो होली है' अक्सर यह वाक्य होली के दिन बोला जाता है ताकि कोई रंग लगाने पर चिढ़े नहीं ।

🔴 सम्भवत होली ही एकमात्र ऐसा त्योंहार है जो भारत के सभी 29 राज्यों में मनाया जाता है ।

• Holi Hai, Happy Holi Best Wishes Images Download

होली का इतिहास


होली मनाने के कुछ ऐतिहासिक साक्ष्य भी है जो प्राचीन ग्रंथों में उल्लेखित है ।

🔵  ईसा से 300 वर्ष पुराने एक अभिलेख में भी होली पर्व मनाने का उल्लेख किया गया है । यानी लगभग 2500 वर्ष पहले भी होली खेली जाती थी ।

🔷 इतिहासकारों का मानना है कि आर्यों में भी इस पर्व का प्रचलन था लेकिन अधिकतर यह पूर्वी भारत में ही मनाया जाता था ।

🔴 होली का पर्व भारत में काफी पुराने वक्त से मनाया जा रहा है, जिसका जिक्र प्राचिन साहित्यों में मिलता है । सुप्रसिद्ध मुस्लिम पर्यटक अलबरूनी ने भी अपने ऐतिहासिक यात्रा संस्मरण में होलिकोत्सव का वर्णन किया है ।

🔶 इतिहास में वर्णन है कि शाहजहाँ के ज़माने में होली को ईद-ए-गुलाबी या आब-ए-पाशी (रंगों की बौछार) कहा जाता था ।

🔵 मुगल काल में होली के किस्से हैं। अकबर का जोधाबाई के साथ तथा जहाँगीर का नूरजहाँ के साथ होली खेलने का वर्णन मिलता है ।

🔷 इसके अतिरिक्त प्राचीन चित्रों, भित्तिचित्रों और मंदिरों की दीवारों पर इस उत्सव के चित्र मिलते हैं ।

🔴 विजयनगर की राजधानी हंपी के 16वीं शताब्दी के एक चित्रफलक पर होली का आनंददायक चित्र उकेरा गया है। इस चित्र में राजकुमारों और राजकुमारियों को दासियों सहित रंग और पिचकारी के साथ राज दम्पत्ति को होली के रंग में रंगते हुए दिखाया गया है ।

• 25 मजेदार, लाजवाब, फनी स्टेटस व्हाट्सएप्प के लिए

अलग - अलग राज्यों की होली, होली के प्रकार


◆ ब्रज की होली


भारत में सबसे ज्यादा मशहूर है ब्रज की होली। ब्रज की होली को लट्ठमार होली कहा जाता है। खासतौर पर यह मथुरा,वृंदावन और बरसाना के इलाकों में खेली जाती है। यहां पर महिलाएं लाठी से पुरुषों की पिटाई करती हैं जबकि पुरुष उनसे बचने की कोशिश करते हैं।

◆ कुमाउ की होली


उत्तराखंड के कुमाउ क्षेत्र में हर साल कुमाउनी होली बड़ी धूम-धाम से मनाई जाती है। यहां मौजूद सभी लोगों के लिए ये त्योहार एक ऐतिहासिक और सांस्कृतिक उत्सव है। कहते हैं यहां होली की खुमारी लोगों में करीब दो महीनों तक रहती है। यहां पर होली विभिन्न प्रकार के संगीत समारोह के रूप में मनाई जाती है, जिसे बैठकी होली, खड़ी होली और महिला होली के नाम से भी माना जाता है।

• अभिनेत्री श्रीदेवी के जीवन की रोचक बातें जो कभी नहीं भुलाई जा सकती

◆ हरियाणा की होली


हरियाणा की धुलेंडी में भाभी द्वारा देवर को परेशान करने की प्रथा है। यह देशभऱ में प्रसिद्ध है।

◆ बंगाल की होली


बंगास की दोल जात्रा चैतन्य महाप्रभु के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। यहां होली के अवसर पर ज्यादातर लोग सिर्फ सूखे रंग का ही इस्तेमाल करते हैं।

◆ बिहार की होली


बिहार में होली के मौके पर गाये जाने वाले फगुआ की अपनी गायन शैली के लिए अलग पहचान है। राज्य में कई स्थानों पर कीचड़ से होली खेली जाती है तो कई स्थानों पर कपड़ा फाड़ होली खेलने की भी परंपरा है। होली के दिन रंग से सराबोर लोग ढोलक की धुन पर नाचते है और लोकगीत गाते हैं ।

◆ उत्तर प्रदेश होली


उत्तर प्रदेश में जगह जगह पर होली मनाने का तरीका अलग अलग है । अगर मथुरा, वृन्दावन की तरफ जाते हैं तो वहां लट्ठमार होली देखने को मिलेगी । साल भर में एक ऐसा दिन भी आता है जब पत्नी अपने पति को डंडे से मारती हैं । इसके बाद आप अगर लखनऊ, वाराणसी इलाहबाद जाते है तो आपको होली का अलग जश्न देखने को मिलेगा । यहां लोग अबीर गुलाल और पानी से खेलते है और डीजे पर खूब नाचते हैं ।

• देश दुनिया के अजब गजब तथ्य

◆ गोवा में होली


गोवा में होली को शिमगो या शिमगोत्सव कहा जाता है । इस दिन लोग वसंत का स्वागत करने के लिए रंग खेलते हैं और जुलुस निकालते हैं ।

◆ पंजाब की होली


यहां पर होली पौरुष के प्रतीक पर्व के रूप में मनाई जाती है । पंजाब में होली को होला मोहल्ला कहा जाता है । इस अवसर पर, घोड़ों पर सवार निहंग, हाथ में निशान साहब उठाए तलवारों के करतब दिखा कर साहस, पौरुष और उल्लास का प्रदर्शन करते हैं ।

होली के बारे में यह रोचक जानकारी की पोस्ट आपको कैसी लगी । अगर आप ऐसे ही अन्य त्योहारों की गजब जानकारी पाना चाहते है तो हमारी वेबसाइट पर विजिट करते रहें ।
यह भी पढ़ें ↓↓
• सफलता की कुंजी - मोटिवेशनल कहानी
• भारत के बारे में मजेदार रोचक तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे
मारा Facebook Page लाईक करें, Twitter और Instagram पर हमें Follow करें ।

यदि आपको रोचक जानकारियों युक्त कोई पोस्ट पंसद आई हो तो कृप्या कंमेट अवश्य करें ।
आपके सुझाव हमारी मेहनत को सफल बनाते है ।
EmoticonEmoticon